पथरा गई आँखे तेरा इंतज़ार करते करते…

पथरा गई आँखे तेरा इंतज़ार करते करते
टूट गए हम एक तरफ़ा प्यार करते करते,

क़यामत है इज़हार करने की अदा उसकी
कर देता है इन्कार वो इज़हार करते करते,

इतना भी आसाँ नहीं ज़िस्म के पार जाना
लोग डूबे ही है ये ज़िस्म पार करते करते,

न जाने कब बिछड़ गए तुझसे ऐ ज़िन्दगी
ख़्वाब पूरे होने का ऐतबार करते करते,

ज़माना ये कि ग़र लिख दूँ कागज़ पे सच
हर्फ़ बौखला जाते है तकरार करते करते..!!

Leave a Reply

error: Content is protected !!