जब ज़िंदगी सुकून से महरूम हो गई…

जब ज़िंदगी सुकून से महरूम हो गई
उन की निगाह और भी मासूम हो गई,

हालात ने किसी से जुदा कर दिया मुझे
अब ज़िंदगी से ज़िंदगी महरूम हो गई,

क़ल्ब ओ ज़मीर बेहिस ओ बेजान हो गए
दुनिया ख़ुलूस ओ दर्द से महरूम हो गई,

उन की नज़र के कोई इशारे न पा सका
मेरे जुनूँ की चारों तरफ़ धूम हो गई,

कुछ इस तरह से वक़्त ने लीं करवटें ‘असद’
हँसती हुई निगाह भी मग़्मूम हो गई..!!

~असद भोपाली

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: