दोनों जहान तेरी मोहब्बत में हार के…

दोनों जहान तेरी मोहब्बत में हार के
वो जा रहा है कोई शब-ए-ग़म गुज़ार के,

वीराँ है मय-कदा ख़ुम-ओ-साग़र उदास हैं
तुम क्या गए कि रूठ गए दिन बहार के,

इक फ़ुर्सत-ए-गुनाह मिली वो भी चार दिन
देखे हैं हम ने हौसले परवरदिगार के,

दुनिया ने तेरी याद से बेगाना कर दिया
तुझ से भी दिल-फ़रेब हैं ग़म रोज़गार के,

भूले से मुस्कुरा तो दिए थे वो आज ‘फ़ैज़’
मत पूछ वलवले दिल-ए-ना-कर्दा-कार के..!!

Leave a Reply

error: Content is protected !!