हकीक़त में नहीं कुछ भी दिखा है…

हकीक़त में नहीं कुछ भी दिखा है
क़िताबो में मगर सब कुछ लिखा है,

मुझे समझा के वो मज़हब का मतलब
डर ओ लालच में आए दिन बिका है,

जो रात और दिन पढ़ा करते हो पोथी
कभी उनका असर ख़ुद पर दिखा है ?

जब हाथो से नहीं कुछ कर सका वो
तो बोला यही तो क़िस्मत में लिखा है,

असल में रीढ़ ही उसकी सलामत नहीं
वो सदियों से इसी फन पे टिका है..!!

Leave a Reply

error: Content is protected !!