परिंदा समझ कर शिकार कर गई

वो माहिर थी फन ए अय्यारी में
अपने इश्क़ में मुझे बीमार कर गई,

अनाड़ी सी शख्सियत थी अपनी
वो मुहब्बत में भी कारोबार कर गई,

जिसे समझते रहे चारागर ए हयात
परिंदा समझ कर शिकार कर गई,

सबक़ ऐसा जो ना किताबो में था
इस क़दर मुझको होशियार कर गई,

हम निभाते रह गए अहद ए वफ़ा
वो लफ्ज़ ए वफ़ा को दागदार कर गई

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: