खून अपना हो या पराया हो….

खून अपना हो या पराया हो
नस्ल ए आदम का खून है आखिर,
 
जंग मशरिक़ में हो कि मगरिब में
अमन ए आलम का खून है आख़िर,
 
बम घरो पर गिरे कि सरहद पर
रूह तामीर ए ज़ख्म खाती है,
 
खेत अपने जले या गैरो के
ज़ीस्त फाकों से तिलमिलाती है..!!

Leave a Reply

%d bloggers like this: