इस तरह मोहब्बत में दिल पे हुक्मरानी है…

इस तरह मोहब्बत में दिल पे हुक्मरानी है
दिल नहीं मेरा गोया उनकी राजधानी है,

घास के घरौंदे से ज़ोर आज़माई क्या ?
आँधियाँ भी पगली हैं बर्क़ भी दिवानी है,

शायद उनके दामन ने पोंछ दीं मेरी आँखें
आज मेरे अश्कों का रंग ज़ाफ़रानी है,

पूछते हो क्या बाबा क्या हुआ दिल ए ज़िंदा
वो मेरा दिल ए ज़िंदा आज आँ जहानी है,

‘कैफ़’ तुझ को दुनिया ने क्या से क्या बना डाला
यार अब तेरे मुँह पर रंग है न पानी है..!!

~कैफ़ भोपाली

Leave a Reply

%d bloggers like this: