एक वो इतने खूबरू तौबा…

एक वो इतने खूबरू तौबा
उसपे छूने की आरज़ू तौबा !

हाथ काँपेंगे रूह मचलेगी
जब वो आएँगे रूबरू तौबा !

चाँद तारो से रात सजती हुई
तेरी आवाज़ और तू तौबा !

लब नहीं उसकी आँखे बोलती है
ऐसा अंदाज़ ए गुफ़्तगू तौबा…!!

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: