चलो मौत को गले लगा कर देखे….

चलो मौत को गले लगा कर देखे
ज़िन्दगी से पीछा छुड़ा कर देखे,

घुट घुट कर जीने से बारहा बेहतर है
ख़ुद को सफहा ए हस्ती से मिटा कर देखे,

जब कोई हसरत नहीं जीते रहने की
फिर क्यों न ज़िन्दगी की कश्तियाँ जला कर देखे,

सुना है क़ुबूल हो जाती है हर दुआ माँगी
चलो हम भी उम्मीद कोई बंधा कर देखे,

शायद उन्हें आ जाए थोडा तरस हम पर
नदामत के चंद आँसू सही बहा कर देखे..!!

Leave a Reply

error: Content is protected !!