यहाँ शोर बच्चे मचाते नहीं हैं…

यहाँ शोर बच्चे मचाते नहीं हैं
परिंदे भी अब गीत गाते नहीं हैं,

वफ़ा के फ़लक पर मोहब्बत के तारे
ख़ुदा जाने क्यूँ झिलमिलाते नहीं हैं,

दिलासा न दे यूँ हमें शैख़ सादी
दिलों में समुंदर समाते नहीं हैं

विरासत में वाइ’ज़ लक़ब पाने वाले
मोहल्ले की मस्जिद में जाते नहीं हैं,

मुसव्विर ने तस्वीर-ए-फ़ुर्सत बना कर
कहा वक़्त को हम बचाते नहीं हैं,

ख़स-ओ-ख़ार से घोंसला शह कड़ी पर
अबाबील क्यूँ अब बनाते नहीं हैं,

हमें तुम सिखाओ तुम्हें हम सिखाएँ
सभी काम तो हम को आते नहीं हैं,

ये दुनिया ए दो रंग ओ रोज़ा के मंज़र
कि अबरार अब दिल लुभाते नहीं हैं..!!

~ख़ालिद अबरार

Leave a Reply

error: Content is protected !!