तू इस क़दर मुझे अपने क़रीब लगता है

तू इस क़दर मुझे अपने क़रीब लगता है
तुझे अलग से जो सोचू अजीब लगता है,

जिसे ना हुस्न से मतलब ना इश्क़ से सरोकार
वो शख्स मुझको बहुत बदनसीब लगता है,

हदूद ए ज़ात से बाहर निकल के देख ज़रा
ना कोई गैर, ना कोई रक़ीब लगता है,

ये दोस्ती, ये मरासिम, ये चाहते ये खुलूस
कभी कभी ये सब कुछ अजीब लगता है,

उफक़ पे दूर चमकता हुआ कोई तारा
मुझे चिराग ए दयार ए हबीब लगता है,

ना जाने कब कोई तूफान आयेगा यारो
बुलंद मौज से साहिल क़रीब लगता है..!!

~जाँ निसार अख्तर

Leave a Reply

error: Content is protected !!