बड़े बेमुरौत होते है ये हुस्न वाले

कही दिल लगाने की कोशिश न करना

मुहब्बत की झूठी अदाओं पे साहब
जवानी लुटाने की कोशिश न करना,

बड़े बेमुरौत होते है ये हुस्न वाले
कही दिल लगाने की कोशिश न करना,

हँसी आती है अपनी बरबादियो पर
न यूँ प्यार से देखे बन्दा परवर

मेरे दिल के ज़ख्मो को नींद आ गई है
उन्हें तुम जगाने की कोशिश न करना

सितमगर से ज़ोर ओ सितम की शिकायत
न हम कर सकते है न हम कर सकेंगे,

मेरे आँसूओ तुम मेरा साथ देना
उन्हें कुछ बताने की कोशिश न करना,

शमा बन के महफ़िल में हम जल रहे है
मगर दिल की हालत है परवानो जैसी,

ख़ुदा की क़सम जान दे देंगे हम
पर हमें आज़माने की कोशिश न करना..!!

Leave a Reply

error: Content is protected !!