चलो सागर ए इश्क़ का किनारा ढूँढे…

चलो सागर ए इश्क़ का किनारा ढूँढे
डूबने वालो के लिए सहारा ढूँढे,

यूँ भी ज़माने में गम है बे शुमार
चलो मिल कर इसका कोई चारा ढूँढे,

हमारे लिए काफी है तुम्हारी एक झलक
तुम्हारे वास्ते आओ नया नज़ारा ढूँढे..!!

Leave a Reply

%d bloggers like this: