सुना कर हाल क़िस्मत आज़मा कर लौट आए हैं…

सुना कर हाल क़िस्मत आज़मा कर लौट आए हैं
उन्हें कुछ और बेगाना बना कर लौट आए हैं,

फिर एक टूटा हुआ रिश्ता फिर एक उजड़ी हुई दुनियाँ
फिर एक दिलचस्प अफ़्साना सुना कर लौट आए हैं,

फ़रेब-ए-आरज़ू अब तो न दे ऐ मर्ग-ए-मायूसी
हम उम्मीदों की एक दुनिया लुटा कर लौट आए हैं,

ख़ुदा शाहिद है अब तो उन सा भी कोई नहीं मिलता
ब-ज़ोम-ए-ख़्वेश उन को आज़मा कर लौट आए हैं,

बिछे जाते हैं या रब क्यूँ किसी काफ़िर के क़दमों में
वो सज्दे जो दर-ए-का’बा पे जा कर लौट आए हैं..!!

Leave a Reply

%d bloggers like this: