बाग़ पा कर ख़फ़क़ानी ये डराता है मुझे…

बाग़ पा कर ख़फ़क़ानी ये डराता है मुझे
साया-ए-शाख़-ए-गुल अफ़ई नज़र आता है मुझे,

जौहर-ए-तेग़ ब-सर-चश्म-ए-दीगर मालूम
हूँ मैं वो सब्ज़ा कि ज़हराब उगाता है मुझे,

मुद्दआ महव-ए-तमाशा-ए-शिकस्त-ए-दिल है
आइना-ख़ाना में कोई लिए जाता है मुझे,

नाला सरमाया-ए-यक-आलम ओ आलम कफ़-ए-ख़ाक
आसमाँ बैज़ा-ए-क़ुमरी नज़र आता है मुझे,

ज़िंदगी में तो वो महफ़िल से उठा देते थे
देखूँ अब मर गए पर कौन उठाता है मुझे,

बाग़ तुझ बिन गुल-ए-नर्गिस से डराता है मुझे
चाहूँ गर सैर-ए-चमन आँख दिखाता है मुझे,

शोर-ए-तिम्साल है किस रश्क-ए-चमन का या रब
आइना बैज़ा-ए-बुलबुल नज़र आता है मुझे,

हैरत-ए-आइना अंजाम-ए-जुनूँ हूँ ज्यूँ शम्अ
किस क़दर दाग़-ए-जिगर शोला उठाता है मुझे,

मैं हूँ और हैरत-ए-जावेद मगर ज़ौक़-ए-ख़याल
ब-फ़ुसून-ए-निगह-ए-नाज़ सताता है मुझे,

हैरत-ए-फ़िक्र-ए-सुख़न साज़-ए-सलामत है ‘असद’
दिल पस-ए-ज़ानू-ए-आईना बिठाता है मुझे..!!

~मिर्ज़ा ग़ालिब

Leave a Reply

%d bloggers like this: